क्यु रिलेशनशिप में हर वक्‍त दूसरे को ब्‍लेम करना बन सकता है इमोशन शटडाउन की वजह, इस तरह निकालें हल

हाइलाइट्स

आप एक-दूसरे के दृष्टिकोण को समझने की कोशिश करें.
आप अपने पार्टनर को अपने हालात के बारे में बताएं.

Relationship Tips: कुछ लोगों की आदत होती है कि वे अपनी गलती को नहीं स्‍वीकारते और हर नुकसान की वजह दूसरों पर डाल देते हैं. यह आदत उनके रिलेशनशिप को भी काफी नुकसान पहुंचा सकता है. मनोवैज्ञानिक और काउंसलर ल्यूसिले शैकलटन का कहना है कि हर वक्‍त दूसरों में दोष निकालने का अर्थ है यह महसूस कराना कि वह सही हैं. दोष देने वाला यह चाहता है कि दूसरा व्यक्ति यह देखे कि वह हर तरह से सही है और उन्होंने उसे कैसे प्रभावित किया है. लेकिन आरोप लगाने वाले के बर्ताव से समस्या घटती नहीं, बल्कि रिलेशनशिप में पार्टनर रक्षात्मक मोड में आ जाता है और यह इमोशनल शट डाउन की वजह बन जाता है. जिस वजह से समाधान प्राप्त करने में मदद नहीं मिलती और पार्टनर खुद को बचाने में ही रह जाता है. ऐसे में यह ज़रूरी है कि आप अपने रिलेशनशिप में दोष देने या हर वक्‍त ब्‍लेम करने के बदले हम बेहतर तरीके से व्‍यवहार करें और दोष देने से बचें.

हम दोष देने के बदले करें ये काम

अनुभव को समझें
आप बहस करने या दोष देने की बजाय अगर इस बात में उत्‍सुकता दिखाएं कि आखिर हुआ क्‍या था या उनका अनुभव समझने की कोशिश करें तो इससे आप अपने पार्टनर के इमोशन को हर्ट भी नहीं करेंगे और गलतियों को ठीक करने का उपाय भी निकाल पाएंगे.

 इसे भी पढ़ें : रिलेशनशिप में पार्टनर से होती है जलन? इस तरह अपनी नकारात्‍मक भावनाओं को करें कंट्रोल

हम एक दूसरे के दृष्टिकोण को समझें
बेहतर होगा अगर आप पार्टनर में दोष निकालने की बजाय एक दूसरे के दृष्टिकोण को समझने की कोशिश करें तो यह आपके लिए अपने पार्टनर की सोच को समझने में आसानी होगा.

आप खुल कर पूछें सवाल
आप अगर दोष देने की बजाय पहले उनके खुद कर इस मुद्दे पर सवाल करें तो उन्हें जबाव देने का मौका मिलेगा. सवाल मधुरता से पूछें.

आप परिस्थिति को समझाएं
आप अपने हालात के बारे में बताएं और उन्‍हें यह बतलाएं कि आप किन परिस्थितियों में यह सवाल पूछ रहे हैं और यह सवाल आपके लिए कितना ज़रूरी है.

आप ये भी पढ़ें : कहीं आप भी तो नहीं रखते अपने पार्टनर से ये 7 हवाई उम्मीदें?

अलग तरह से भी देखने की करें कोशिश
चीजों को अलग तरीके से भी देखन की कोशिश करें. ऐसा करने से आप बेहतर तरीके से पार्टनर को भी समझ सकेंगे और गलतियों का हल निकाल पाएंगे.

अपने इमोशन को बताएं
आप दोष देने की बजाय यह बता सकते हैं कि आप कैसा अनुभव कर रहे हैं और किन भावनाओं से गुजर रहे हैं. ऐसा करने से अपके बीच अंडर स्‍टैंडिंग बढ़ेगी और आप ब्‍लेम गेम से बच जाएंगे.

Tags: Lifestyle, Relationship

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: